इस क्रिकेटर पर भारी पडी सचिन की एक खूबी, बर्बाद हुआ करियर

loading...

Third party image reference

सचिन तेंदुलकर के साथ, विनोद कांबली 1990 के दशक में मुंबई से निकलने वाली सर्वश्रेष्ठ प्रतिभाओं में से एक थे। लेकिन, कुछ ऐसे हालात बने कि उनका (विनोद कांबली) अच्छा खास करियर चौपट हो गया। कहते हैं कि अगर कांबली टीम में होते तो आज सचिन तेंदुलकर रिकॉर्डों में टक्कर देते। आपको जानकर हैरत होगी कि विनोद कांबली ओर सचिन तेंदुलकर बचपन के दोस्त हैं। एक साथ पढ़े, एक साथ क्रिकेट खेले, एक ही गुरू से टे्रनिंग ली और तकरीबन एक ही साथ टीम इंडिया के लिए खेले। लेकिन, कहते हैं ना कि होनी को कुछ और ही मंजूर था। सचिन लगातार कामयाबी की सीढ़ी चढ़ते गए। सचिन का शांत स्वभाव ओर खेल के प्रति अनुशासन और शिष्टाचार उनके लिए आगे का मार्ग प्रशस्त करता गया, जबकि कहा जाता है कि विनोद कांबली के पास अनुशासन की कमी थी।

Third party image reference

कांबली ने क्रिकेट में नाकाम होने और अपने करियर के प्रभावी रूप से समाप्त होने के बाद 2000 में उन्होंने सुनील शेट्टी के साथ फि़ल्म अनर्थ में अभिनय किया। लेकिन यह बॉक्स ऑफिस पर अच्छा प्रदर्शन नहीं कर सकी। इसके बाद उन्होंने पल दो पाल का साथ ओर कन्नड़ फिल्म में भी काम किया लेकिन, उसमें वह सफल नहीं हो सके और उनका फिल्मी करियर भी समाप्त हो गया।